कुलभूषण जाधव केस में कोई भी कदम उठाना PAK को पड़ सकता है महंगा, पढ़ें पूरी खबर Monday, December 31, 2018-2:58 PM
  •  

    नई दिल्ली/टीम डिजिटल।  पाकिस्तान की जेल में बंद कुलभूषण जाधव के खिलाफ अगर पाकिस्तान कोई भी कदम उठाता है तो उसे भारी पड़ सकता है। दरअसल पिछले ही हफ्ते पाकिस्तान ने अतंरराष्ट्रीय अदालत के एक फैसले के पक्ष में वोट किया है। जिसका संदर्भ भारत ने जाधव के केस में दिया था।

    माना जा रहा है कि इस वजह से भारत का पक्ष और मजबूत हो सकता है। माना जा रहा है कि ये पाकिस्तान द्वारा किया गया ये सेल्फ गोल है। चलिए जानते है आखिर ये माजरा क्या है। पाकिस्तान में कथित तौर पर जासूसी के आरोप में मौत की सजा पाए भारतीय नागरिक जाधव को कांसुलर ऐक्सेस न देने के मामले में भारत ने 2004 के अवीना और दूसरे मेक्सिकन नागरिकों के संदर्भ में इंटरनैशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (ICJ) के फैसले का जिक्र किया था। इस मामले में अमेरिका पर वियना कन्वेशन का उल्लंघन करना आरोप साबित हुआ था।

     #TripleTalaqBill पर राज्यसभा में घमासान, वोटिंग में हिस्सा नहीं लेगी JDU!

    कई मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक पाकिस्तान ने पिछले हफ्ते भारत समेत 68 देशों के साथ संयुक्त राष्ट्र के उस प्रस्ताव के समर्थन में वोट किया है जिसमें कहा गया है कि आईसीजे के अवीना जजमेंट को पूर्ण रूप से और तुरंत लागू किया जाए। वास्तव में 14 साल के बाद भी अमेरिका ने अब तक आईसीजे के आदेश लागू नहीं किया है। 

    1984 सिख विरोधी दंगेः कड़कड़डूमा कोर्ट या तिहाड़ जेल में सरेंडर कर सकता है सज्जन कुमार

    बता दें कि आईसीजे संयुक्त राष्ट्र की मुख्य न्यायिक शाखा है। ICJ में जाधव केस पर फरवरी 2019 में सुनवाई होनी है, जिसने अंतिम फैसला आने तक पाकिस्तान द्वारा जाधव को मौत की सजा देने पर स्टे लगा दिया था।

     

     

     

    Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

Latest News