कुलभूषण जाधव मामले पर पाकिस्तान ने ICJ में दिया भारत को एक और लिखित जवाबWednesday, July 18, 2018-6:47 PM
  • नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पाकिस्तान ने जासूसी के आरोप में गिरफ्तार किए भारतीय नागरिक कुलभषण जाधव की सजा के मामले में भारत को लिखित में दूसरा जवाब दे दिया है। पाकिस्तान की ओर से यह जवाब अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत (आईसीजे) में  दिया गया। उल्लेखनीय है कि जाधव को आतंकवाद और जासूसी करने के आरोप में पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत ने मौत की सजा सुनाई हुई है। 

    पुतिन और ट्रंप के बीच मुलाकात के दौरान इन मुद्दों पर हुई बातचीत

    भारत ने इस सजा के खिलाफ पिछले साल मई में अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत का रुख किया था, जिसके बाद आईसीजे की 10 सदस्यीय पीठ ने 18 मई 2017 को पाकिस्तान मामले पर फैसला आने तक जाधव को मौत की सजा देने पर रोक लगा दी थी। आईसीजे ने 23 जनवरी को पाकिस्तान और भारत दोनों को इस मामले में दूसरे दौर का जवाबी हलफनामा दायर करने की समयसीमा दी थी।

    आतंकी हमले से बचना है तो पहले ऑनलाइन आतंकी सामग्री के प्रसार को रोको: EU

    पाकिस्तान ने इस मामले में कार्यवाही करते हुए अपना लिखित जवाब दिया है। पाकिस्तान की ओर से इस बारे में जानकारी रेडियो पाकिस्तान के विदेश विभाग के प्रवक्ता के हवाले से दी गई। प्रवक्ता ने बताया कि भारत के लिए विदेश विभाग की महानिदेशक डॉ. फरीहा बुगती ने जवाब दाखिल किया।

    पाकिस्तान के अनुसार उसने अंतरराष्ट्रीय अदालत में भारत की दलीलों पर विस्तार से जवाब दे दिया है। 400 से अधिक पृष्ठों के जवाब में भारत की आपत्तियों का भी जवाब दिया। गौरतलब है कि हेग स्थित आईसीजे में 17 अप्रैल को भारत द्वारा दाखिल याचिकाओं के जवाब में पाकिस्तान ने जवाबी हलफनामा दायर किया है। अब इस मामले की सुनवाई के लिए अंतराष्ट्रीय अदालत तारीख तय करेगी।

    स्वामी अग्निवेश को मिला विपक्ष का साथ, बोले- ऐसे हमलों से नहीं डरने वाला हूं

    बता दें कि कुलभूषण जाधव भारतीय नागरिक होने के साथ-साथ देश के पूर्व नौसेना अधिकारी भी रह चुके हैं। भारत ने ही इस बात की पुष्टि की थी। जाधव का ईरान में अपना व्यापार था। 29 मार्च 2016 को पाकिस्तान ने इन्हें बलूचिस्तान से गिरफ़्तार करने का दावा किया था, वहीं भारत सरकार का कहना है कि जाधव का ईरान से अपहरण किया गया है।

    उसके बाद जाधव को जासूसी और आतंकवाद के आरोप में पाक की एक सैन्य अदालत ने मौत की सजा सुनाई थी।   

    Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

Latest News