‘आप में घमासान’ राज्यसभा के लिए उम्मीदवारों की घोषणा पर   Friday, January 5, 2018-4:07 AM
  • वैचारिक मतभेदों के आधार पर गांधीवादी समाजसेवी अन्ना हजारे से अलग होकर अरविन्द केजरीवाल ने शांति भूषण, प्रशांत भूषण, योगेंद्र यादव, मनीष सिसौदिया और किरण बेदी आदि को साथ लेकर 2 अक्तूबर, 2012 को ‘आम आदमी पार्टी’ (आप) का गठन किया था। 

    ‘आप’ ने 28 दिसम्बर, 2013 को कांग्रेस के समर्थन से दिल्ली में सरकार बनाई पर 49 दिनों के बाद ही जन लोकपाल विधेयक पेश करने के प्रस्ताव को समर्थन न मिल पाने के कारण उनकी सरकार ने इस्तीफा दे दिया। पार्टी में इसके बाद सब कुछ ठीक चल रहा था परन्तु नेताओं के एक वर्ग तथा केजरीवाल के बीच मतभेदों के चलते पार्टी में पहली बार फूट पनपी। इसके बावजूद पार्टी ने दिल्ली में 2015 के चुनावों में 70 में से 67 सीटें जीतीं और केजरीवाल पुन: मुख्यमंत्री बने। 

    5 वर्षों में कर्नाटक में 3,515 किसानों ने की आत्महत्य

    परंतु कुछ ही समय बाद पार्टी में उनके विरुद्ध आवाजें उठने लगीं। शांति भूषण, प्रशांत भूषण व योगेंद्र यादव ने उन पर अनेक आरोप लगाए जिस पर केजरीवाल ने उन्हें पार्टी से निकाल दिया। पंजाब के लोकसभा चुनावों में 4 सीटें जीत कर पैर जमा रही पार्टी में भी विद्रोह के स्वर उभरने लगे तथा उसके बाद से लगातार पार्टी गलत कारणों से चर्चा में बनी हुई है। 

    इन दिनों राज्यसभा के लिए उम्मीदवारों के तौर पर पार्टी के संस्थापक सदस्य संजय सिंह के अलावा 36 दिन पहले 28 नवम्बर को कांग्रेस छोड़ कर आए सुशील गुप्ता और चार्टर्ड अकाऊंटैंट एन.डी. गुप्ता को नामित किए जाने के विरुद्ध पार्टी में केजरीवाल के प्रति रोष भड़क उठा है। 

    सुशील गुप्ता दिल्ली के कारोबारी हैं जिन्होंने केजरीवाल के विरुद्ध पोस्टर अभियान चलाकर विज्ञापनों पर करोड़ों रुपए फूंकने का आरोप लगाया और हस्ताक्षर अभियान चलाया था। परंतु इनके चयन को लेकर केजरीवाल के विरोधियों ने उन पर निशाना साध लिया है। करावल नगर से पार्टी विधायक कपिल मिश्रा ने केजरीवाल पर आरोप लगाते हुए कहा कि ‘‘आपने लीडर और डीलर में से डीलर को चुना है।

    इसी प्रकार कुमार विश्वास ने कहा है कि ‘‘मुझे सच बोलने की सजा मिली है। केजरीवाल का फैसला हो या सॢजकल स्ट्राइक, टिकट वितरण में गड़बड़ी या पंजाब में चरमपंथियों के प्रति साफ्ट रहना हो, मैंने इसकी कीमत चुकाई।‘‘केजरीवाल से असहमत होकर पार्टी में कोई भी जीवित नहीं रह सकता। कुछ समय पूर्व केजरीवाल ने मुझे कहा था कि हम तुम्हें समाप्त कर देंगे लेकिन शहीद नहीं होने देंगे। मैं अपनी शहादत को स्वीकार करता हूं।’’

    लगातार 2 हार के बाद पार्टी में भावी उम्मीदवार को लेकर चिंता, अमृतसर में BJP को चेहरे के लाले

    किसी समय अरविंद केजरीवाल के साथी रहे वरिष्ठï वकील प्रशांत भूषण के अनुसार, ‘‘केजरीवाल ने ऐसे लोगों को टिकट दिया है जिनकी न समाज सेवा के क्षेत्र में कोई पहचान है और न वे राज्यसभा में जाने के योग्य हैं। इसी प्रकार योगेंद्र यादव ने कहा कि ‘‘3 वर्षों में मैंने न जाने कितने लोगों से कहा कि केजरीवाल में और जो भी दोष हों उन्हें कोई खरीद नहीं सकता।

    यहां तक कि कपिल मिश्रा के आरोप को भी मैंने खारिज किया परंतु आज समझ नहीं पा रहा कि क्या कहूं। मैं स्तब्ध और शर्मसार हूं। केजरीवाल के विरोध में अनेक बड़े लोग आ गए हैं और भाजपा सांसद प्रवेश वर्मा ने तो यहां तक कहा है कि ‘‘मैं केजरीवाल को नार्को टैस्ट करवाने की चुनौती देता हूं अगर इसमें उन्होंने यह नहीं बताया कि .....राज्यसभा के टिकट बेचे हैं तो मैं अपने परिवार के साथ देश छोड़ दूंगा।’’

    इस घटनाक्रम के बीच कपिल मिश्रा ने अपने समर्थकों के साथ वीरवार को राजघाट पहुंच कर धरना दिया और ‘आप’ की राज्यसभा सीटों को पैसे लेकर बेचने का आरोप लगाते हुए कहा कि ‘‘केजरीवाल बिकाऊ और खाऊ दोनों हैं और उन्होंने राज्यसभा की सीटों का सौदा किया है...राज्यसभा की इस सौदेबाजी को, आंदोलन के हत्यारों को चुनौती देना आवश्यक है।’’ 

    दूसरी ओर कुमार विश्वास पार्टी द्वारा राज्यसभा का टिकट न दिए जाने से आहत तथा राजनीति से संन्यास लेने तक पर सोच रहे बताए जाते हैं। इस बीच ‘आप’ की ओर से राज्यसभा की सीट के लिए दिल्ली से घोषित उम्मीदवार सुशील गुप्ता ने पैसा देकर टिकट खरीदने का आरोप लगाने वाले भाजपा सांसद प्रवेश वर्मा, कपिल मिश्रा तथा भाजपा के स्थानीय नेता हरीश खुराना को मानहानि का नोटिस भेजा है। 

    कुल मिलाकर अरविन्द केजरीवाल और उनकी पार्टी से लोगों में देश में स्वच्छ राजनीति के एक नए युग के उदय होने की आशा का संचार हुआ था परन्तु यह आशा धूमिल हो रही है। इस तरह की घटनाएं उनकी और उनकी पार्टी की छवि को आघात ही पहुंचा रही हैं जिनके जारी रहने पर उनके लिए अपना लक्ष्य प्राप्त कर पाना कठिन हो सकता है। 

       —विजय कुमार

    Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

Latest News