प्रद्युम्न हत्याकांड में कोर्ट का बड़ा फैसलाः आरोपी पर बालिग की तरह चलेगा केसWednesday, December 20, 2017-1:51 PM
  • नई दिल्ली/टीम डिजिटल। प्रद्युम्न हत्याकांड मामले में गुड़गांव जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड ने आज फैसला सुनाते हुए आरोपी को बालिग मान लिया है। बोर्ड के इस आदेश के बाद आरोपी पर बालिग की तरह केस चलेगा। इसके साथ ही यह केस अब  जिला एवं सत्र न्यायालय को सौंपा दिया गया है। जो इस मामले में आगे की सुनवाई 22 दिसंबर को करेगा। इसकी जानकारी प्रद्युम्न के फेमिली वकील सुशील टेकरीवाल ने दी।   

    जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड के फैसले पर संतोष जताते हुए प्रद्युम्न के पिता वरुण ठाकुर ने कहा कि हम जानते हैं कि यह लड़ाई लंबी है लेकिन बच्चों के हित को देखते हुए अंत तक लड़ूंगा।  

    इससे पहले, आरोपी के फिंगर प्रिंट लेने के बाद सोमवार के दिन सीबीआई की टीम फरीदाबाद में बने बाल सुधार गृह में पहुंची। जहां वह करीब 2 घंटे तक रूकी। वहीं, अब प्रद्युम्न हत्याकांड मामले में जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड में सुनवाई पुरी हो चुकी है। करीब ढाई घंटे तक चली बहस के बाद बोर्ड द्वारा आरोपी छात्र की जमानत याचिका को खारीज कर दिया गया था।
     

    India's Most Wanted के होस्ट सुहैब इलियासी को आज सुनाई जाएगी सजा

     बोर्ड की रिपोर्ट में कही गई ये बात

    गुड़गांव जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड को प्रद्युम्न मर्डर केस में सौंपी गई रिपोर्ट में आरोपी की मानसिक प्रृवत्ति को लेकर  साइकोलॉजिकल और सोशल इन्वेस्टिगेशन तथ्य सामने रखे गए। इसके साथ ही रिपोर्ट में कई चौंका देने वाली बातें भी सामने आई है। रिपोर्ट के आधार पर बोर्ड से आरोपी पर बालिग की तरह केस चलाए जाने की मांग की गई है।

    इस रिपोर्ट दो दोनों पक्षों को स्टडी के लिए दिया गया है। सूत्रों का कहना है कि रिपोर्ट में आरोपी को हाईपर अग्रेसिव बच्चा बताया गया है। इसके साथ ये भी बात सामने आई है कि बच्चा घर में अपने मां-बाप के बीच होने वाले झगड़ों से परेशान है। रिपोर्ट में कई ऐसी बातों का भी खुलासा किया गया है जो कि उसके नाबालिग होने के कारण मीडिया के सामने नहीं लाई गई हैं।

    कांग्रेस ने विधानसभा चुनावों में हार के बाद, राजस्थान निकाय चुनावों में की जीत दर्ज

    प्रद्युम्न के वकील का ये है कहना

    मामले पर हुई सुनवाई के बारे में बताते हुए प्रद्युम्न के वकील का कहना है कि बोर्ड में सौंपी गई रिपोर्ट के आधार पर आरोपी पर बालिग की तरह केस चलाने की उम्मीद है। आपको बता दें कि जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड ने फैसला 20 दिसंबर तक के लिए सुरक्षित रख लिया है।

    Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

Latest News